Girl-measuring-her-waist-line

मोटापे से परेशान? यहाँ जानिए 10 योग विशेषज्ञों की कारगर सलाह – Yoga for Weight loss in hindi

1 योग एक ऐसा शास्र है जो हमे आत्म-साक्षात्कार ( Self Realization ) की और ले जाता है ।
 
जैसे एक  ट्रेन “राजधानी एक्सप्रेस” मुंबई से अपनी यात्रा शुरू करती है और दिल्ली में समाप्त करती  है, और मान लीजिये इसके मार्ग में सूरत, वडोदरा, रतलाम, आदि जैसे  स्टेशन आते है। 
 
high-speed-running-train
ऎसे ही  मुंबई और दिल्ली के बीच में  आने वाले स्टेशनों की तरह, योगाभ्यास करने वाले अपनी प्रारंभिक अवस्था से आत्म-साक्षात्कार की स्थिति तक जाते है, इनके बीच में , वजन घटाना (Weight loss ) , लचीलेपन, बेहतर पाचन, आदि जैसे लाभ बीच के स्टेशनो की तरह एक  योगाभ्यास करने वाले को प्राप्त होते है। 1
 
2 इस आर्टिकल में , हम योग विशेषज्ञों के साथ “वेट लॉस” जो योग रुपी ट्रैन का एक स्टेशन है, इसके बारे में गहराई से चर्चा करेंगे। 
 
इस विषय पर विचार क्यों आवश्यक है?
 
क्योंकि पूरी दुनिया में लगभग 1,694,461,789 लोग ओवरवेट से पीड़ित हैं (विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 25 Kg / m 2   से अधिक  बीएमआई वाला व्यक्ति ओवरवेट माना जाता है ) 2
 
Where-obseity-is-higher-statistics-world-chart
3 मोटापा शरीर के अत्यधिक फैट  से युक्त एक विकार है जो अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के जोखिम को बढ़ाता है। मोटापे का मुख्य कारण अत्यधिक कैलोरी की खपत और एक गतिहीन जीवन शैली है।
 
मानसिक बीमारी, प्रारंभिक कुपोषण, हार्मोनल असंतुलन, जल प्रतिधारण, दोषपूर्ण मेटाबोलिज्म आदि मोटापे के कारण हो सकते  है। 
 
अच्छी खबर यह है कि योग इन समस्याओं  से निपटने और मोटापे को कम करने में मदद करता  है।
 
यह समझना महत्वपूर्ण है कि वजन तब  बढ़ता है जब   कैलोरी का सेवन अधिक होता है और अगर यह प्रक्रिया लंबे समय तक जारी रहती है तो व्यक्ति मोटापे का शिकार हो जाता है।
 
यह एक स्पष्ट संकेत है कि वजन कम करने के लिए अधिकांश व्यक्तियों को अपना अधिक कैलोरी  सेवन कम  करना पड़ेगा और यह समझना पड़ेगा की जैसे वजन को बढ़ने के लिए समय लगता है वैसे ही उसे कम करने के लिए भी समय लगेगा। 
 
योग एक आसान वर्कआउट है और इस प्रकार इसे अपनी जीवन शैली का हिस्सा बनाना ज्यादा कठिन नहीं है ।
 
योग आपको अंतर्मन की ओर केंद्रित करता है जिससे आप अपने शरीर के प्रति  जागरूक होते है , यह तनाव का मुकाबला करने में भी मदद करता है और स्वास्थ वर्दक भोजन के प्रति एक इंसान को प्रेरित करता है ।
 
जब आप अभ्यास करके अधिक ऊर्जावान और ताजगी महसूस करते हैं, तो आप जंक फ़ूड का  कम सेवन करते है क्योकि यह आपको आलसी और सुस्त बना देता है इसलिए योग का एक नियमित अभ्यास करने  वाले का न केवल वजन कम होता है , बल्कि  उसका शरीर पूर्ण रूप से स्वस्थ और मजबूत होता है। 3
 
2 अगर आपको कभी भी लगता है कि योग करने के लिए आप बहुत व्यस्त हैं
 
तो आपको पता होना चाहिए कि सुबह 10 मिनट का  एक छोटा सा अभ्यास भी आपके लिए विभिन्न स्वास्थ्य लाभ ला सकता है जो आपको पूरे दिन के लिए ऊर्जा प्रदान कर सकता है। 
 
हमने इस आर्टिकल में आसन, प्राणायाम और यहां तक ​​कि मुद्राएं जो वजन घटाने के लिए सक्ष्म है उनको कवर किया है। 
 
तो चलिए, वजन घटाने के लिए 14 शीर्ष योग आसनों के बारे में बात करते हैं 2
 
Contents

वजन घटाने के लिए 14 योग आसन ( Yoga for Weight loss in hindi )

1. बालासन ( child pose in Hindi )

Child's-Pose-Balasana-in-Hindi
बालासन
4 वजन कम करने के लिए बालासन एक अच्छा योग आसन है ।
 
बात यह है कि जब हम स्ट्रेस्स लेते हैं (और अगर वास्तविकता देखे तो इस COVID-19 के समय में), हमारा शरीर कोर्टिसोल नामक “तनाव हार्मोन” का उत्पादन करता है। 
 
यह अनिवार्य रूप से एक बुरी बात नहीं है, लेकिन जब कोर्टिसोल लगातार अपने चरम पर होता है, तो शरीर वसा ( Fat ) जमा करता है और मांसपेशियों को खो देता है, लेकिन कहानी वहाँ समाप्त नहीं होती है
 
उच्च कोर्टिसोल आपकी भूख को बढ़ा सकता है और शुगर और उच्च फैट वाले खाद्य पदार्थों के प्रति आपको प्रेरित कर सकता है। 
 
बलासना एक ऐसा आसन है जो व्यस्त दिनो  में शांती  की भावना को आमंत्रित करने के लिए बहुत लाभकारी  है। यह आसन शरीर और मस्तिष्क दोनों के लिए लाभकारी है , यह तनाव को कम करने और अंततः कोर्टिसोल के स्तर को सामान्य करने में मदद करता है ।
 
इस आसन को करने से मांसपेशियां मजबूत होती हैं और शरीर के आंतरिक अंगों में लचीलापन लाने के साथ पेट की चर्बी घटती है।
 
यह आसन शरीर और मन को शांति प्रदान करता है और घुटनों और मांसपेशियों के लिए भी लबदायक है । 4

बालसाना कैसे करे? ( How to do Child’s Pose in Hindi )

5 1. इसे करने के लिए घुटनों के बल जमीन पर बैठ जाएं और पूरे शरीर को एड़ियों पर रखें।
 
2. आगे की ओर झुकाव के साथ एक गहरी सांस लें और ध्यान रखें कि आपकी छाती जांघों को छुए , और फिर अपने माथे से फर्श को छूने की कोशिश करें।
 
3. इस अवस्था में कुछ मिनट तक रहें और फिर वापस अपनी सामान्य स्थिति में आ जाएं। 5

2.पश्चिमोत्तानासन (Paschimottanasana in Hindi)

Paschimotanasana or Sitting forward fold in Hindi
पश्चिमोत्तानासन.
Credit Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor

3 पश्चिमोत्तानासन ( Paschimottanasana ) रीढ़, कंधों, पीठ के निचले हिस्से और हैमस्ट्रिंग को स्ट्रेच करता है और उन्हें  लाभ पहुंचाता है, पेट की मालिश करता है , गुर्दे को उत्तेजित करता है , चयापचय (Metabolism ) को सक्रिय करता है , पेट की चर्बी को कम करता है , और पैरासिम्पेथेटिक (parasympathetic)  प्रणाली को उत्तेजित करता है  जो शरीर में शांति को स्थापित करता है । 3

पश्चिमोत्तानासन करने का तरीका ( How to do Paschimottanasana in Hindi )

2 1. इसे करने के लिए जमीन पर  बैठे और अपने पेरो को सीधा रखे,  ध्यान रखे की दोनों पैर एक दूसरे से चिपके हो और  उनके बीच में दूरी न हो। साथ ही साथ अपनी गर्दन, सिर और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखे। 
 
2) ऐसा करने के बाद अपने हाथो को घुटने पर रखे। 
 
३) अब बिना अपने घुटनो को मोडे अपने सिर को आगे की ओर झुकाएं और अपनी उंगलियों से अपने पैरो को छूने की कोशिश करे। 
 
4) इसके बाद आप अपने सिर और माथे को अपने दोनों घुटनो से छूने की कोशिश करे और अपनी कोहनी से जमीन को। 
 
5)  इस अवस्था में अपनी सांस को छोड़ दे और कुछ देर इसी अवस्था में रहे, फिर वापस बैठ जाए
 
6) इसे 3 से 4 बार दोहराएं। 2

3. भुजंगासन ( Bhujangasana in Hindi )

Cobra-Pose-Bhujangasana-in-hindi
भुजंगासन

भुजंगासन के लाभ (Bhujangasana benefits in Hindi )

5 यह आसन पेट की चर्बी को कम करने, कमर को पतला करने, कंधों को मजबूत करने और बाजुओं को चौड़ा करने में बहुत फायदेमंद है। शरीर को लचीला और सुडौल बनाने में इसका बहुत महत्व है।

कैसे करे भुजंगासन  ( Bhujangasana steps in hindi )

भुजंगासन को कोबरा मुद्रा भी कहा जाता है क्योंकि यह साँप जैसी आकृति बनाता है।
 
1. इसे करने के लिए अपने पेट के बल जमीन पर लेट जाएं।
 
2. दोनों हाथों से शरीर के ऊपरी हिस्से को कमर से उठाएं, इस समय आपकी कोहनी मुड़ी होनी चाहिए।
 
3. आपकी हथेलियाँ खुली और जमीन की ओर होनी चाहिए और फिर शरीर के बाकी हिस्सों को हिलाए बिना चेहरे को ऊपर की ओर ले जाएं।
 
4. 15- 20 सेकंड तक इस मुद्रा में रहें और फिर छोड़ दें। 5

4. उष्ट्रासन ( Ustrasana in Hindi )

Camel-Pose-Ustrasana-in-hindi
उष्ट्रासन
5 जैसा कि इस आसन से ऊंट जैसा आकार बनता है, इसीलिए इसे उष्ट्रासन या ऊंट मुद्रा ( Camel Pose ) के रूप में भी जाना जाता है और इस योग मुद्रा से आपका पेट, कमर, छाती और हाथ मजबूत होते हैं। 5
 

उष्ट्रासन  के लाभ (Ustrasana benefits in hindi )

2 1. उष्ट्रासन पाचन शक्ति बढ़ाता है 
 
2 . यह कब्ज में राहत देता है क्योकि यह आपके पेट को फैलाने में मदद करता है। 
 
3 . पीठ दर्द की परेशानी को कम करता है 
 
4. हिपस में खिचाव लाता है। 2

उष्ट्रासन करने का तरीका ( How to do Ustrasana Or Camel Pose In Hindi )

5 1. इसे करने के लिए वज्रासन में बैठें और अपने घुटनों के बल खड़े हों।
 
2. घुटनों से कमर तक के हिस्से को सीधा रखें और फिर हाथों से अपने पैरों की एड़ियों को पकड़ने के लिए पीछे झुकें।
 
3. अब अपने सिर को पीछे की ओर थोड़ा झुकाएं और 30 सेकंड के लिए यहां रहें। 

5. तितली आसन  ( Butterfly Pose in Hindi )

Butterfly-pose-baddha-konasana-in-hindi
तितली आसन
3 तितली आसन करते समय, ऐसा महसूस होता है कि तितली अपने पंखों को फड़फड़ा रही है। इसलिए, इस आसन को तितली आसन कहा जाता है।
 
यह आसन पेट और जांघ को प्रभावित करता है और यह आपकी जांघों और पैरों पर जमा वसा ( fat)  की अधिकता को कम करने में मदद करता है। 3

तितली आसन कैसे करें ( How to Butterfly Pose )

1. अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा करते हुए अपने पेरो को सामने की ओर  सीधा करके बैठ जाए। 
 
2 . अपने पैरो  को मोड़ ले और अपने हाथ की उंगलियों को पैरो  के ऊपर लाकर उन्हें मिला ले। इस समय आपकी एड़िया आपके शरीर से सटी होनी चाहिए।
 
3 . अब सामान्य तरीके से सांस लेते हुए, दोनों पैरो को ऊपर नीचे करते रहे 15 – 20 बार। 5

6. चतुरंग दंडासन ( Chaturangadandasana In Hindi )

Chaturangadandasana or Low plank in hindi
चतुरंग दंडासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor
3 यह कोर को मजबूत करने के लिए सबसे अच्छे आसनों में से एक है और यह पेट और हाथ की मांसपेशियों को मजबूत करने और पीठ को मजबूत करने के साथ पूरे शरीर को सक्रिय रखता है। 3

चतुरंग दंडासन कैसे करें ( How to Chaturangadandasana )

2  1. जमीन पर पेट के बल पर लेट जाये और अपने हाथो को कंधो से थोड़ा सा पहले रख ले 
 
2. अपने हाथो और अपनी पैरो की उंगलियों पर वज़न डालकर ऊपर उठने की कोशिश करे। 
 
3. जब तक ऊपर ऊठे तब तक आपके फोर आर्म और अप्पर-आर्म के बीच में 90 डिग्री को कोण नहीं बन जाता 
 
4. अपनी पीठ को बिल्कुल सीधा रखे और अपने  बाजू और कंधो को सहारा देने के लिए अपने एब्स को मजबूत रखे ताकि वो भी आपका वज़न उठाने में मदद कर सखे। 
 
5. अपनी आँखो के जरिये अपनी नज़र को नाक पर केंद्रित करे और आपका सिर शरीर की सिधाई में होना चाहिए। 
 
6. इस आसन में 5 -6 सांसो तक रहे या जितना हो सखे उतना रहे। 90 सेकेंड से ज्यादा इस आसन में न रहे। 2
 

7. त्रिकोणासन ( Traingle Pose in Hindi )

Trikonasana or Triangle Pose in HINDI
 त्रिकोणासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor

त्रिकोणासन के लाभ ( Traingle Pose Benefits in Hindi )

3 1. त्रिकोणासन पेट और कमर से फैट को कम करता है , 
 
2. पाचन में सुधार लाता है 
 
3 . पूर्ण शरीर को स्ट्रेच करता है
 
4   रक्त परिसंचरण में सुधार
 
5.   टखनों, पैरों और पीठ को मजबूत करता है 
 
6.   हैमस्ट्रिंग और जांघों की  टोनिंग करता है । 3

त्रिकोणासन  कैसे करें ( How to Trikonasana )

2  1.  अपनी योग मैट पर सीधे खड़े  होकर अपने पैरो के बीच में 3 -4  फीट तक का स्पेस दे। 
 
2. 90  डिग्री पर अपना दाहिना पैर बहार की ओर  रखे और बाए पैर 15 डिग्री पर रखे, ध्यान रखे की आपके पैर जमीन को दबा रहे हो। 
 
3. आपके दोनों पैरो पर शरीर का वज़न एक सामान होना चाहिए। 
 
4. अपने हिप्स के निचे से अपने शरीर को दाहिने ओर  मोड़े और अपनी कमर को बिल्कुल सीधी  रखे 
 
5. अब अपने बांए हाथ को ऊपर उठाकर अपने दाहिने हाथ से जमीन को छुए। 
 
6. जब आप ऐसा करे तो आपका शरीर बगल की तरफ झुका होना चाहिए और आपका बायां हाथ छत की तरफ खींचा होना चाहिए। 
 
7. जितना हो सके  अपने शरीर को उतना स्ट्रेच करे और लम्बी  सांसे लेते रहे, ध्यान रखे की आपके पैर सीधे होने चाहिए। 
 
8. अब इसी तरह बाए पैर के साथ  दोहराएं। 2

8.उत्कटासन ( Utkatasana in Hindi )

Parivrtta Utkatasana or Revolved chair pose in hindi
उत्कटासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor

3 यह पाचन शक्ति  को बढ़ाता है,  लिम्फ सिस्टम पर काम करता है जो आगे शरीर से विषाक्त पदार्थों को खत्म करने  में मदद करता है, और तनाव को दूर करता है । यह ग्लूट्स (Glutes ) और क्वाड्स (Quads ) को भी मजबूत करता है । 3

उत्कटासन कैसे करे ( How to do Utkatasana )

2  1. अपनी मैट पर अपने पैरो को फैलाकर खड़े हो जाएं। 
 
2. अपनी हथेली को नीचे की तरफ करके अपने दोनों हाथो को फैलाएं। 
 
3. अपने घुटनों को पेल्विस के नीचे धीरे धीरे मोड़कर ले आये ( याद रहे कि आपकी कोहनी मुड़ी न हो और हाथ सीधे हो )
 
4. अब अपने हाथो  को सीधे रखते हुए धीरे धीरे झुके जैसे आप अपनी कुर्सी पर बैठ रहे हो 
 
5.  दिमाग को शांत रखें और अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखे। 
 
6. इसे 1  मिनट तक करे फिर सुखासन में बैठ कर आराम करे। 2

9. अधोमुख श्वानासन ( adho mukha svanasana in hindi )

Adho Mukha Svasasana or Downward facing dog in hindi
अधोमुख श्वानासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor

अधोमुख श्वानासन के लाभ ( benefits of adho mukha svanasana )

3 1) यह , पीठ, जांघों और  हैमस्ट्रिंग को मजबूत और टोन करता है ।
 
2) यह कोर मांसपेशियों को मजबूत बनाने के साथ कंधों को खोलता है।
 
3) यह सिर की ओर रक्त प्रवाह में सुधार करता है और पूरे शरीर से तनाव कम करता है।
 
4) यह तंत्रिका तंत्र ( Nervous System ) को शांति प्रदान करता है। 3

अधोमुख श्वानासन को कैसे करे ( how to do adho mukha svanasana in hindi  )

2  1) पेट के बल लेट कर अपने हाथो और पैरो की साहयता से अपने शरीर को उठाने की कोशिश करे और टेबल जैसी आकृति बनाएं। 
 
2) अब अपने शरीर को “v ” आकार में लाने की कोशिश करे , इसके लिए अपने हिप्स को ऊपर की तरफ उठाये और अपने घुटनो और हाथो को मजबूत रखे। 
 
3) ध्यान रखे की आपके पैर आपके हिप्स की सीध में हो और आपके हाथ आपके कंधो की सीध में हो। 
 
4 )  अपनी आँखो को अपने पेट की तरफ केन्द्रित  करते हुए अपने हाथो को नीचे जमीन पर दबाएं और गर्दन को थोड़ा खींचने की कोशिश करे। 
 
5 ) इस आसन में आप कुछ सेकेंड्स तक रहे और फिर वापस टेबल जैसी आकृति में आ जाये।  2

10. नौकासन ( Boat Pose in Hindi )

Naukasana or Boat Pose in hindi
नौकासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor

6 इस आसन को  नियमित रूप से  करके आप अपने  वजन को कम कर सकते है6

नौकासन कैसे करे ( how to boat pose in hindi )

2  1) अपने पैर एकदम सीधे करके बैठ जाये  
 
2 ) अपने दोनों हाथो को अपने हिप्स के थोड़ा पीछे रखकर अपने पैरो को ऊपर उठाने की कोशिश करे 
 
3 ) अपने पैरो को जमीन से 45 डिग्री पर रखे और इस बात का ध्यान रखे की आपकी पीट  सीधी हो 
 
4 ) अपनी टेलबोन को बढाकर अपने घुटनो को मजबूत कर उन्हें सीधा कर ले 
 
5 ) अपने तखनो को अपनी आँख की सीध में रखे और अपने हाथ को फर्श के सामान एकदम सीधा स्ट्रेच करे। 
 
6 ) इस आसन में 10 से 20 सेकेंड्स तक रहे फिर धीरे – धीरे  सामान्य स्थिति  में आ जाये। 2

नौकासन के लाभ ( benefits of boat pose in Hindi )

6 1. सीधे आपके  पेट पर  काम करता है और आपके  पूरे शरीर को टोन करता है ।
2. इससे आपकी पीठ मजबूत होती है।
3. इससे सूजन और गैस में भी राहत मिलती है, पाचन  में सुधार होता है।
4. यह आंतों, गुर्दे, थायराइड और प्रोस्टेट ग्रंथियों को उत्तेजित करता है।
5. यह मुद्रा आपके तीसरे चक्र (आपकी नाभि के पीछे स्थित) को भी सक्रिय करता  है।
6.  नौकासन आपके  हैमस्ट्रिंग को स्ट्रेच करता है और  आपके कूल्हों को  मजबूत करता है। 6

11. धनुरासन ( Bow Pose in Hindi )

Dhanurasana or Bow pose in hindi
धनुरासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor
3 इस आसन में आपके शरीर का वजन आपके पेट पर पड़ता है जिससे आपके पेट के निचले हिस्से में जो मांसपेशियों है उनकी मालिश होती है , कब्ज सही होता है ,  भूख और पाचन में सुधार आता है ।
 
इसी के साथ-साथ हृदय में विस्तार हृदय दर और रक्त परिसंचरण बढ़ता  है, वजन घटने में सहायता मिलती है और पीठ मजबूत होती है। 3

धनुरासन कैसे करे ( How To Do Bow Pose In Hindi )

2 1) पेट के बल अपनी मैट पर लेट जाये। 
 
2) अपनी घुटनो को मोड़कर अपनी एड़ियों को अपने हिप्स पर रखने की कोशिश करे। 
 
३) अब आप अपने घुटनो को अपने हाथो से पकड़ने की कोशिश करे और अपनी छाती और अपनी जांघो को ऊपर उठाये। 
 
4 ) यह धनुरासन है , इसको आप 30-40  सेकेंड तक करे फिर वापस सामान्य हो जाये। 2
 

12. अर्ध मत्स्येन्द्रासन ( Ardha Matsyendrasana in हिंदी )

Ardhmatseyendrasana or Seated Twist in hindi
अर्ध मत्स्येन्द्रासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor
3 अर्ध मत्स्येन्द्रासन शुरुआती लोगो के लिए एक लाभदायक आसन  है,  यह रीढ़ की हड्डी को मजबूत करता है , शरीर को  लचीला बनाता है , पीठ दर्द को कम करता  है , और स्लिप डिस्क वाले रोगियों के लिए फायदेमंद होता है।
 
पेट के नीचे के अंगों की मालिश करता है और एक ही समय में उसे घूमाता है जिससे  शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर निकलते है , हृदय की गति और चयापचय  दर ( metabolic rate ) में वृद्धि  होती है । 3

अर्ध मत्स्येन्द्रासन कैसे करे ( How to do Ardha Matsyendrasana in hindi  )

2 1) दंडासन में बैठकर अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा करे और अपने हाथो  को थोड़ा सा जमीन में दबायें। 
 
2 ) अब अपने बाएं पैर को मोड़कर दाएं पैर के घुटने के ऊपर से ले जाकर जमीन पर रखे 
 
3 ) फिर अपने दाएं पैर को मोड़िये और अपने बाएं हिप के पास ले जाकर उसे आराम से रखे 
 
4 ) अब अपने दाहिने हाथ से बाएं पैर का अंगूठा पकडे और जितना हो सखे अपने आप को मोड़े और  अपनी आँखों को अपनी बाएं कंधे पर केंद्रित करे। 
 
5 ) समान्य रूप से सांस ले और 30-60 सेकेंड तक इस आसन में रहे। 
 
6 ) इन सारे स्टेप्स को दूसरी तरफ़ दौहरायें। 2

13. हलासन ( Halasana in Hindi  )

Halasana or plough pose in hindi
हलासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor

हलासन के लाभ ( Halasana benefits in Hindi )

3 हलासन के यह लाभ होते है :- 
 
1 .  हलासन पाचन तंत्र और मेटाबोलिज्म  को मजबूत करता है
 
2  मोटापे को कम करने में मदद करता है 
 
3 यह थाइरोइड और पैरा थाइरोइड  को उत्तेजित करता है जिसे आपका मेटाबोलिज्म अच्छा रहता है
 
4 . यह रीढ़ की हड्डी को मजबूत करता है और कमर दर्द में आराम देता है 3

कैसे करें हलासन? (How To Do Halasana in hindi ?)

2 1) पीठ के बल लेटकर अपने हाथो को अपने शरीर से चिपका ले और हथेलियों को जमीन की तरफ रखे। 
 
2 )  अब सांस लेते हुए अपने पैरो को फर्श  से 90 डिग्री तक उठाये  और उन्हें सहारा देने के लिए अपने हाथो का इस्तेमाल करे। 
 
३ ) अपनी टांगो को सिर की तरफ ले जाये और आपसे जितना हो सके  अपनी टांगों को सिर के पीछे लेजाए (  आपके पैर के अंगूठे जमीन से छुएंगे )
 
4 ) अब अपनी कमर और हाथ को सीधा  रखने की कोशिश करे 
 
5 ) इस आसन में 30 से 60 सेकेंड तक रहे और फिर धीरे धीरे अपने पैरो को जमीन पर  वापस ले आये।     2

14. पवनमुक्तासन ( Pawanmuktasana in Hindi )

Pawanmuktasana or wind releasing pose in hindi
पवनमुक्तासन
Credit:- Harjas Kaur, Certified Yoga Instructor

3 एक मिनट या उससे अधिक समय के लिए पवनमुक्तासन को  करने से पेट मजबूत होता है , आंत और पाचन अंगों की मालिश होती है, कब्ज में राहत मिलती  है , और पीछे और ऊपर के हिप्स से तनाव कम होता है। 3

पवनमुक्तासन करने का तरीका (How To Do Pawanmuktasana in hindi)

2 1) पीठ के बल लेट जाये फिर अपने बाएं घुटने को मोड़कर पेट के पास जितना संभव हो सके  ले आये। 
 
2 ) अब सांस छोड़ते हुए अपने दोनों हाथो  की मदद से अपने बाएं घुटने को सीने से छुलाने की कोशिश करे। 
 
३) फिर अपने सिर को उठाकर अपनी नाक को घुटने से  छूने की कोशिश कीजिए।
 
4 ) अब इसी मुद्रा में 10 से 30 सेकेंड तक रहे और धीरे धीरे सांस छोड़िये। 
 
5 ) इन्ही स्टेप्स को दाएं ओर दोहराहे और 3 से 5 बार इस मुद्रा को करे। 
 
इन योग मुद्राओ  को अपने दैनिक अभ्यास में शामिल करने से  कई सारे  फायदे होते  हैं और यह निश्चित रूप से स्वस्थ तरीके से आपका वजन घटा सकते  है। 2
 
10-Top-Yoga-Poses-for-Weight-Loss-in-hindi

वजन घटाने के लिए 6 प्राणायाम ( Pranayama for Weight loss in Hindi )

Pranayama-for-weight-loss-in-hindi
प्राणायाम
7 योग में आसन ही नहीं बल्कि प्राणायाम और मुद्राओं की मदद से भी वजन कम किया जा सकता है।
 
चलिए बात करते हैं कुछ प्राणायाम अभ्यास की।
 
प्राणायाम ” प्राण ” शब्द से बना है और प्राण हमारे शरीर की एक महत्वपूर्ण ऊर्जा है और जैसा  कि हम जानते हैं कि प्राणायाम में गहरी और लम्बी  श्वास ली जाती  है जिसमें हमारे शरीर के रक्त में ऑक्सीजन बढ़ जाती है। ऑक्सीजन की  इस वृद्धि के कारण मेटाबोलिज्म शरीर का  सुपर एक्टिव हो जाता है और इस प्रकार बीएमआई में कमी आती है।
 
एक सक्रिय मेटाबॉलिज्म अधिक संख्या में कैलोरी जलाने में मदद करता है, इसलिए मेटाबॉलिक रेट अगर अधिक है तो आप जल्दी से अपना वजन कम कर सकेंगे  ।
 
हमारे भोजन से हमें जो फैट  मिलता है, वह   बाद में कार्बन डाइऑक्साइड और पानी में परिवर्तित हो जाता है इसलिए यदि आप इन दोनों  उत्पादों को हटा नहीं पा  रहे हैं, तो यह ट्राइग्लिसराइड्स यानी अतिरिक्त फैट  के रूप में शरीर में जमा हो जाता है  और यह प्राणायाम से दूर हो जाता है। 7

1. कपालभाति क्रिया ( Kapalbhati Pranayama in Hindi )

8 योग करके हम अपना वजन कम कर सकते हैं लेकिन इसके लिए, हमें योग को एक पूरी प्रणाली के रूप में देखना होगा, केवल आसन करना पर्याप्त नहीं होगा जैसा कि हमने ऊपर चर्चा की थी!
 
आसन मांसपेशियों में ताकत का निर्माण करते है , लेकिन यदि आप योग के अन्य 7 अंगों को भी शामिल नहीं करते हैं, तो आपकी जीवनशैली में महत्वपूर्ण परिवर्तन नहीं हो सकता है।
 
उदाहरण के लिए, कपालाभाटी श्वास तकनीक वजन कम करने में एक बड़ी सहायता हो सकती है।
 
 जी हां, यह वास्तव में प्राणायाम नहीं है बल्कि  क्रिया साधना है। इसे ” स्कल शाइनिंग ब्रेथ ” ( Skull Shining Breath ) के नाम से भी जाना जाता है। इसमें हम सक्रियता से  ( Active ) साँस छोड़ते है  और निष्क्रियता से  ( Passive ) साँस लेते  है।
 
हमारी सामान्य जिंदगी  में, हम साँस सक्रियता ( Active ) से लेते  है और निष्क्रियता ( Passive ) से छोड़ते है लेकिन सक्रियता से  साँस छोड़ने पर  पेट की मांसपेशियों उत्तेजित हो जाती है और  अतिरिक्त वसा को हटाने और आपके शरीर को टोनिंग करने में मदद करती  है।
 इस तकनीक का इस्तेमाल करके आपका  शरीर डिटॉक्स हो जाता है  और आप जब  तेज और गहरी सांस लेते है तो उससे आपके पूरे शरीर में काफी ऊर्जा पैदा होती है ।
 
आपको सिर्फ डिटॉक्स का लाभ नहीं मिलेगा, बल्कि यह आपके पाचन तंत्र को भी स्वस्थ करेगा। खासकर उन लोगों के लिए जिनका सामान्य तौर पर पाचन तंत्र धीमा होता है। 
 
जब आप इसे सुबह करेंगे,  ठीक जागने के बाद,  तो आपके दिन की शुरुआत में  आप बहुत ऊर्जावान महसूस करेंगे। 

कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास कैसे करें ( How to Kapalbhati Pranayama In Hindi )

कपालभाति श्वास तकनीक के लिए आप अपनी  रीढ़ की हड्डी को सीधा करके बैठ जाये और अपने हाथों को अपने पेट पर रखें जिससे आपका ध्यान इस  क्षेत्र की ओर बड़े और जब आप इस प्राणायाम तकनीक के साथ अधिक अनुभवी हो जाते हैं, तो आप अपने हाथो को  घुटनों पर भी रख सकते हैं।
 
शुरुआत में सामान्य रूप से सांस ले  और फिर कुछ मिनटों के बाद जब आप  तैयार महसूस करे तो आप कपालभाति क्रिया को शुरू कर सकते है ।
 
आपको बस अपनी सांस तेजी से छोड़ना है और आराम से अंदर लेनी है। 
 
शुरू करने के लिए,  लगभग 30 बार आप ऐसा कीजिये और फिर आप  3 से 5 बार  सामान्य रूप से सांस ले सकते हैं। 
 
इसके बाद आप  एक या दो बार इसे दोहरा सकते है और जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर है वे इसे न करे। 8
 

2. अग्निसार क्रिया ( Agnisar kriya in Hindi )

2 यह प्राणायाम पाचन प्रक्रिया को मजबूत बनाता है, पेट की चर्बी को कम करता है और कब्ज में भी फायदेमंद होता है।

कैसे करे अग्निसार क्रिया  ( How to do Agnisar Kriya In Hindi )

1.  पद्मासना में बैठकर अपने हाथों को घुटनों पर आराम से रखें और अपनी आँखों को बंद कर लें
 
2. . अब अपने मुंह से लम्बी और गहरी श्वास बाहर निकालकर उसे बाहर ही रोक ले
 
3.  अब अपने कंधो और रीढ़ की हड्डी को सीधा करके पेट को अंदर-बहार करने की कोशिश करे और ध्यान रखे की यह बिना  श्वास लिए करना है
 
4.  जब श्वास अंदर ले तो अपने पेट और हाथ को समान्य रखे
 
5 . यह इस क्रिया का 1 चक्र है
 
6.    4 से 5 चक्रो का अभ्यास करे और आपको बता दे की  यह प्राणायाम ऊर्जा उत्पन्न करता है, जो आपको गर्म रखने में मदद कर सकता है, इसलिए सर्दियों में 25 चक्रों तक अभ्यास करने की कोशिश करें
 
इसका अभ्यास करने के बाद शवासन में आप आराम कर सकते हैं।
 
सावधानी : उच्च रक्तचाप या हृदय रोग की समस्या हो तो अग्निसार क्रिया को न करे। 2

3)  अनुलोम विलोम प्राणायाम ( anulom vilom in hindi )

7 अनुलोम विलोम प्राणायाम वजन घटाने के लिए एक सिद्ध अभ्यास है, कोर्टिसोल के स्तर (तनाव हार्मोन) को कम करने में मदद करता है और सभी अंगों को ऑक्सीजन की अच्छी आपूर्ति के साथ, यह शरीर के समग्र स्वास्थ  में सुधार करता है।
 
इसमें हम बाएं नथुने से गहराई से श्वास लेते हैं और दाएं नथुने से धीरे-धीरे सांस छोड़ते हैं, फिर से दाएं से गहराई से सांस लेते हैं और उस नथुने को बंद करके बाएं नथुने से सांस छोड़ते हैं, यह अनुलोम विलोम का एक चक्र है ।

अनुलोम विलोम प्राणायाम के फायदे ( Benefits of anulom vilom in hindi )

हार्मोनल असंतुलन के कारण जो अधिक फैट जमा हो जाता है वह  एनुलोम विलोम में लंबी  साँस लेने से समाप्त हो जाता है, यह मेटाबोलिज्म में भी सुधार करता है और  यह रक्त से विषाक्त पदार्थों को भी हटा देता है। 
 
सावधानी :
इस प्राणायाम को करते समय अगर अचानक परेशानी होती है तो हाल इसे रोक दे और  गर्भवती महिलाओं को इसका अभ्यास करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह  लेनाी चाहिए। 

4) भ्रामरी प्राणायाम ( Bhramari Pranayama in hindi ) 

इस अभ्यास में आप गहरी सांस ले और सांस छोड़ने के साथ एक मधुमक्खी की ” बी ” ध्वनि निकाले। 
 
भ्रामारी ” सेरोटोनिन हार्मोन ” की संख्या बढ़ाता है और इस हार्मोन से स्ट्रेस कम होता है क्योंकि तनाव भी वजन बढ़ाने का एक आम कारण है।
 
यह सांस की बीमारियों पर काबू पाने में और मेटाबोलिक गतिविधि को बढ़ाने में भी  मदद करता है। 

5 ) भस्त्रिका प्राणायाम –  Bhastrika Pranayama (Bellows Breath)

 यह भी एक बहुत ही प्रभावी  प्राणायाम  है जो कुछ महीनों के भीतर आपके फैट को कम कर सकता है।
 
इस प्राणायाम में हम एक ही गति में जोर से साँस लेते है और जोर से साँस छोड़ते  है।  यह प्राणायाम  शारीरिक स्तर पर मांसपेशियों की सक्रियता को बढ़ावा देने में मदद करता है  जो आगे चलके संग्रहीत वसा 
( फैट  ) को कम करता है ।
 
यह विभिन्न विषाक्त पदार्थों से रक्त को शुद्ध करके विषहरण प्रक्रिया ( detoxification process ) में भी मदद करता है जो सक्रिय मेटाबोलिज्म  में बाधा डालता है।
 
सावधानी : ये लोग  इस प्राणायाम को न करे जिन्हे  दिल की समस्याएं है , हाई ब्लड प्रेशर है , हाल ही में सर्जरी  हुई है या कोई गर्भवती महिला  है। 7

6) सूर्य भेदन प्राणायाम  ( Surya Bhedan Pranayama in Hindi )

9 मोटापे के लिए यह प्राणायाम वाकई कारगर है।
 
ऐसा करने के लिए किसी भी ध्यान मुद्रा में बैठकर अपनी सांस को मेहसूस करें, फिर नासिका मुद्रा  को  दाएं हाथ में धारण  करे ।
 
ऐसा करने के बाद, अपनी उंगलियों से मामूली दबाव के साथ बाएं नथुने को बंद करके   दाएं  नथुने से श्वास ले और फिर  इसके विपरीत करे । यह सूर्य भेदन प्राणायाम   का एक चक्र  है और वजन कम करने के लिए दिन में 3 बार प्रत्येक अभ्यास  में 27 राउंड परफॉर्म कर सकते हैं।
 
सावधानी : जिन्हें कार्डियक प्रॉब्लम या हाइपरटेंशन है, वे इसे न करे । 9
 

वजन घटाने के लिए 5 योग मुद्राएं ( Mudras For Weight Loss In Hindi )

7 जैसा कि हमने ऊपर चर्चा की कि प्राणायाम वजन घटाने में प्रभावी होता है, उसी तरह कुछ मुद्रा हैं जो कैलोरी जलाने में मदद कर सकती हैं।
 
मुद्रा हाथो की क्रिया है और इन्हे प्रभावी बनाने के लिए आप इनका  नियमित रूप से अभ्यास कर सकते  है । 
 

1) सूर्या या अग्नि मुद्रा ( Surya Mudra in Hindi )

Surya-Mudra-in-hindi
सूर्य मुद्रा
सूर्य मुद्रा अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करती  है और इस मुद्रा को करने से शरीर का तापमान बढ़ जाता है। यह पाचन तंत्र और मेटाबॉलिज्म को बेहतर करने  में मदद करती  है और वजन को कम करती  है।
 

सूर्य मुद्रा कैसे करें ( How to Surya Mudra In Hindi )

1) किसी भी आरामदायक स्थिति में बैठे, आंखें बंद करे  और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखे 
2) रिंग फिंगर को हथेली की ओर मोड़ें और अब अपने अंगूठे से रिंग फिंगर की नोक को  पकड़ें।
3) हथेली को घुटनों या जांघों पर आरामदायक स्थिति में रखें।
4) इस मुद्रा को कम से कम 10 -15 मिनट धारण करें फिर अभ्यास करते करते थोड़ा  समय बढ़ाएं।
 
 
इस मुद्रा में उत्तजित गर्मी कैलोरी को बर्न करने में मदद करती है।

2) प्राण मुद्रा ( prana mudra in Hindi )

Prana-Mudra-in-hindi
प्राण मुद्रा
प्राण मुद्रा महत्वपूर्ण मुद्राओं में से एक है क्योंकि यह शरीर में ऊर्जा को सक्रिय करने में मदद करती  है। मूलचक्र यानी मूलधारा चक्र प्राण मुद्रा के अभ्यास से सजीव हो जाता है और यह पूरे शरीर में ऊर्जा फैलाता है।
 
आम तौर पर आपको बेहतर परिणाम के लिए प्राणायाम के साथ इसे करना चाहिए।
 

प्राण मुद्रा कैसे करें ( How to Prana Mudra In Hindi )

1) किसी भी आरामदायक स्थिति में बैठे, आंखें बंद करे  और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखे 
 
2) अब अंगूठे की नोक को एक साथ रिंग फिंगर और छोटी उंगली की नोक से मिलाएं।
 
3) बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए कम से कम 20 मिनट के लिए इसे पकड़ें।

3) व्यान मुद्रा (Vaayan Mudra hindi )

Vaayan-Mudra-hindi
व्यान का अर्थ है वायु, यह शरीर में ‘वैत ( Vaat ) ‘ को संदर्भित करता है जिसे वायु तत्व के रूप में पहचाना जाता है। शरीर पर वायु तत्वों का प्रभाव भारी होता है और सही तरीके से अभ्यास करने पर कई लाभ प्राप्त होते हैं।
 
यह मुद्रा तंत्रिका तंत्र ( Nervous system ) को मजबूत करती है , जिससे आप अधिक आत्म-जागरूक होते हैं और आपको वजन कम होता हैं।

व्यान मुद्रा का कैसे अभ्यास करे ( How to vaayan Mudra in hindi )

1) किसी भी आरामदायक स्थिति में बैठे, आंखें बंद करे  और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखे 
2) अब अपनी इंडेक्स फिंगर और मिडिल फिंगर की नोक को अपने अंगूठे की नोक पर रखें।
3) अन्य दो उंगलियों को सीधा रखें
4) इस मुद्रा को कम से कम 15-20 मिनट तक धारण करें।
 
 
वजन घटाने के साथ-साथ वैयान मुद्रा शरीर और दिमाग को भी रेगुलेट करने में मदद करती है।

4) कफ़ नाशक मुद्रा ( Kapha Nashak Mudra in Hindi )

पिट्टा और कफ़ दो तत्व हैं जो क्रमशः अग्नि और पृथ्वी का प्रतिनिधित्व करते हैं। कफ़ नाशक मुद्रा मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने के माध्यम से अग्नि उत्पन्न करके पाचन तंत्र को प्रभावी बनाती है। 

कफ़ नाशक मुद्रा का अभ्यास कैसे करें ( How to Kapha Nashak Mudra In Hindi )

1) रिंग फिंगर और  छोटी उंगली को हथेली पर दबाएं
2) अब इन उंगलियों को अपने अंगूठे के साथ पकड़ें और  जब तक यह आरामदायक लगता है दबाव डालते रहे 
3) इस मुद्रा को  20-30 मिनट तक करे 7
 

5. ज्ञान मुद्रा ( Gyan Mudra in hindi )

gyan-mudra-hindi
ज्ञान मुद्रा
2 इस मुद्रा को ज्ञान का संकेत माना जाता है और यह  तनाव और अवसाद को दूर करने में मदद करती  है । नियमित रूप से अभ्यास करने के साथ यह ध्यान के स्तर को बढ़ाती  है, मानसिक शक्ति बढ़ाती है, अतिरिक्त वजन कम करती है, और मस्तिष्क को तेज करती  है। 
 
यदि आप इसे नियमित आधार पर करते हैं तो क्रोध, तनाव, चिंता और यहां तक कि अनिद्रा जैसे आपके किसी भी मनोवैज्ञानिक विकार में काफी सुधार किया जा सकता है।

ज्ञान मुद्रा को  कैसे करें ( How to do Gyan Mudra in hindi )

1) आराम से बैठ जाये और अपने मन को शांत करे  
 
2) आप बेहतर ध्यान और एकाग्रता के लिए अपनी आंखें बंद कर सकते हैं
 
3) फिर अंगूठे की नोक पर अपनी तर्जनी की नोक को स्पर्श करें
 
4) बाकी उंगलियों को फैलाकर सीधा  रखें
 
5) और फिर कम से कम 15 मिनट के लिए इस स्थिति में ही रहे 2

वजन घटाने के अनुकूल खाद्य पदार्थ ( Weight loss friendly foods in Hindi )

10 इन उचित आहार के साथ योग निश्चित रूप से वजन घटाने में आपकी मदद करेगा।

1. नट्स ( Nuts )

nuts-for-weight-loss
नट्स

ये बेहतरीन स्नैक्स ( snacks ) हैं जिनमें संतुलित मात्रा में प्रोटीन, फाइबर और हेल्दी फैट होता है और ये मेटाबॉलिक हेल्थ को बढ़ाने और यहां तक कि वजन घटाने में भी लाभदायक है ।

2. जई ( Oats  )

oats-for-weight-loss
जई
वे बीटा लस  ( beta gluten) फाइबर से भरे हुए हैं जो पेट की तृप्ति को बढ़ाने और मेटाबोलिक स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए फायदेमंद है ।
 

3. चिया बीज ( Chia Seeds )

chia-seeds-for-weight-loss
चिया बीज
यह अब तक का सबसे पौष्टिक भोजन है और इसमें हर 100 ग्राम में 34 ग्राम फाइबर होता है और यह  दुनिया में फाइबर के सर्वोत्तम स्रोतों में से एक है।
 

 4. गाजर ( Carrots )

carrots-for-weight-loss
गाजर
इनमें पानी और फाइबर अधिक होता है जिससे जब आप इन्हे खाते हैं तो आपकी  भूख जल्दी मिट जाती है बिना ओवर-ईटिंग करे। इनकी कैलोरी-बर्निंग क्षमता को बढ़ावा देने के लिए, आप भुना हुआ गाजर खा सकते हैं क्योंकि उनमें कच्ची गाजर की तुलना में  तीन गुना अधिक एंटीऑक्सीडेंट होता हैं।
 
गाजर एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली ( Immune System ) को बनाए रखने में भी मदद कर सकती  है। 

5. शकरकंद ( Sweet potato )

sweet-potato-for-weight-loss
शकरकंद

शकरकंद फाइबर में समृद्ध हैं जिससे यह वजन कम करने में फायदेमंद  हैं, और इस प्रकार यह आपको बिना अधिक कैलोरी खाये आपकी भूख मिटा सकते  है।

नीचे एक इन्फोग्राफिक है जो उन खाद्य पदार्थो को बताता है जो प्रोटीन में अत्यधिक समृद्ध हैं और बिना अधिक भोजन करे आपकी भूख को  तर्प्त कर सकते है। 
 
6-Weight-loss-friendly-foods-infographics-in-hindi
प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ वजन को कम करने में सहायक पाए जाते हैं क्योंकि उन्हें खुद को अमीनो एसिड में बदलने के लिए अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है और उपरोक्त दिखाए गए व्यंजन  वजन घटाने के लिए फायदेमंद होते हैं क्योंकि वे आपके शरीर को अतिरिक्त वसा प्रदान किए बिना मूल रूप से आपके  शरीर की जरूरतमंद तत्वों की पूर्ति करते हैं।
 
आप इस कैलोरी कैलकुलेटर के साथ अधिक मदद ले  सकते हैं, जो आपको यह मापने में मदद करेगा कि आपको अपनी उम्र, ऊंचाई, वर्तमान वजन और अपनी गतिविधि के स्तर के अनुसार कितना वजनआपको कम करना चाहिए। 10

निष्कर्ष

2 अंत में, हम आशा करते हैं कि आपने वजन घटाने पर योग की प्रभावशीलता को पूरी तरह से समझ लिया है

इसके लिए समय चाहिए और  आप अपने शरीर को कम से कम 10 मिनट तो दे ही सकते हैं ताकि आप पूर्ण रूप से स्वस्थ रहे। 

बात रही समय निकालने की तो मेरे हिसाब से कोई भी इंसान भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की तरह व्यस्त नहीं है, जो हर दिन इतना व्यस्त होने के बावजूद योग का अभ्यास करते है क्योंकि वह जीवन में योग का सही मूल्य जानते  है!

तो, कब आप वजन घटाने के लिए  अपना योगा अभ्यास  शुरू करने जा रहे हैं? ( हमें कमेंट बॉक्स  में बताएं ) 2

इस लेख को लिखने वाले 9 योग विशेषज्ञों के बारे में

1. Dilesh Telwane

Yogi-Dilesh-Telwane

Dilesh is a Corporate Trainer and a Life Coach, Co-founder and COO of the Yoga University at Navi Mumbai, India. ( Mentioned in the article by footnote number 1 )

2. Pushkar Agarwal ( Founder Of CNT )

Pushkar-Agarwal-Current-News-Times-Founder-Photo

” You cannot always control what goes on outside, but you can always control what goes on inside ” and Yoga is the best key to the control room of your Inside Body!

Pushkar is a Yoga enthusiast and highly believes in the true power of Yoga as it makes you live to the fullest by digging your body’s hidden treasures of talent.

Through this blog Current News Times, he wants to spread the word of Yoga, far & wide to let everyone benefit from this 5000 Year Old Ultimate Discipline called ” Yoga “

Hari Om!

( Mentioned in the article by footnote number 2 )

3. Harjas Kaur

Harjas-Kaur-Yoga-Teacher-Photo

Harjas Kaur is a 500 hrs Certified Hatha Yoga Teacher.  She is practicing & teaching from the past 8 years and in her quest for more knowledge & to understand various techniques, she traveled to various schools of Yoga for learning different styles.

She teaches Various Styles,  Hatha, Flow, Ashtanga, Vinyasa, Sivananda, Yin, Pre & Post Natal, Chair yoga – keeping in mind the requirement of the students.

The Teachings have an influence on various schools with combining techniques & principles of alignment, flexibility, stability, strength, breath control, concentration & relaxation.

She includes various elements of Yoga like  Asana, Pranayama, bandhas, Dharna (Concentration) & Dhayana (Meditation) in her practice & teachings with understanding it as a whole and holistic practice.

Incorporating Yoga as a complete lifestyle, she hopes she contributes towards helping people connect to their inner self & feel the peace and happiness, which is our true nature!

( Mentioned in the article by footnote number 3 )

4. Laura From Yoga Kali

laura-from-yoga-kali-profile-photo

She is Laura from Yoga Kali, her first encounter with yoga took place more than five years ago and from there she is enhancing herself more & more, daily.

At Yoga kali, she shares her Yoga & Mediation knowledge and she believes that these are the most potent tools for creating positive change both within individual consciousness and without society as a whole.

( Mentioned in the article by footnote number 4 )

5. Rahul Sharma

Rahul-sharma-Yoga-Teacher

He is Rahul Sharma, Yoga Trainer, learning & loving yoga from his very young age when he was in 5th Class.

He truly loves & believes in Yoga by knowing how beneficial it is and helping other people to know about this holistic discipline.

( Mentioned in the article by footnote number 5 )

6. Priyanka Singh

Priyanka-singh-yoga-instructor

She is Priyanka Singh, completed her diploma from Bhartiya Vidya Bhawan, New Delhi and she is also a Martial Art Practitioner, Travel Blogger, Kathak Dancer, and Fashion Blogger.

( Mentioned in the article by footnote number 6 )

7. Kranti Main

Kranti-Main-Yoga-Instructor-Headshot-1

Kranti is dedicated to Yogic Education with 10 years of experience.

Completed Certificate course and Diploma Course in Yoga and she is now a Certified Yoga Instructor with expert knowledge of Yogic Education from a Certified University, currently working as a Yoga therapist at Yoganahat, Mumbai. 

( Mentioned in the article by footnote number 7 )

8. Virendra Ardies

Virendra-Ardies-profile-photo

Virendra started his yoga journey 8 years ago and became yoga teacher 2 Years later. In the beginning, he started out his first vinyasa class and It was his starting of a whole new journey!

Since then he progressed a lot, done some courses, and after three years he became a yoga teacher.

He taught classes in several studios in Antwerp, Sint-Niklaas, and in his hometown Beveren and also shares his knowledge on his blog The Yogi Life for Me.

( Mentioned in the article by footnote number 8)

9. Manish Sharma

dr-manish-sharma-yoga-expert

He is an experienced naturopathic doctor & yoga teacher, have done traditional Chinese medicine program from the Shanghai University of Traditional Chinese Medicine and have received his Bachelor’s degree in Naturopathy & Yogic Sciences from S-VYASA University.

( Mentioned in the article by footnote number 9 )

10. Karishma Rahuja

Karishma Rahuja Fitness Trainer

She is a Yoga and Pilates Instructor at iDietFit, completed her Yoga Teacher Training and Diploma in Yogic Sciences.

( Mentioned in the article by footnote number 10 )

क्या योगा से वजन कम हो सकता हैं?

WEIGHT-LOSS

हां, आप योगा के साथ अपना वजन कम कर सकते हैं । अध्ययनों में पाया गया है कि आसन, प्राणायाम और मुद्राएं सभी में वसा ( फैट ) को जलाने की क्षमता होती है। बस आपको  इन्हे नियमित रूप से और सही तरीके के आहार के साथ इनका अभ्यास करना है ।

वजन घटाने के लिए कौन से आसन लाभदायक हैं?

Ardhmatseyendrasana or Seated Twist in hindi

नियमित रूप से अभ्यास करने से वजन घटाने में आसन जैसे कि बालासन, नौकासन, हलासन, अधो मुख श्वानासन , फलकासन  आदि प्रभावी होते हैं।

क्या प्राणायाम वजन घटाने में मदद करता है?

Pranayama-for-weight-loss-in-hindi

प्राणायाम ” प्राण ” शब्द से बना है और प्राण हमारे शरीर की एक महत्वपूर्ण ऊर्जा है और जैसा  कि हम जानते हैं कि प्राणायाम में गहरी और लम्बी  श्वास ली जाती  है जिसमें हमारे शरीर के रक्त में ऑक्सीजन बढ़ जाती है। ऑक्सीजन की  इस वृद्धि के कारण मेटाबोलिज्म शरीर का  सुपर एक्टिव हो जाता है और इस प्रकार बीएमआई में कमी आती है।
 
एक सक्रिय मेटाबॉलिज्म अधिक संख्या में कैलोरी जलाने में मदद करता है, इसलिए मेटाबॉलिक रेट अगर अधिक है तो आप जल्दी से अपना वजन कम कर सकेंगे  ।
 
हमारे भोजन से हमें जो फैट  मिलता है, वह   बाद में कार्बन डाइऑक्साइड और पानी में परिवर्तित हो जाता है इसलिए यदि आप इन दोनों  उत्पादों को हटा नहीं पा  रहे हैं, तो यह ट्राइग्लिसराइड्स यानी अतिरिक्त फैट  के रूप में शरीर में जमा हो जाता है  और यह प्राणायाम से दूर हो जाता है।

वजन घटाने के लिए कौन सी मुद्राएं लाभदायक हैं?

gyan-mudra-hindi

जी हाँ,  मुद्राएँ  वजन घटाने में प्रभावी होती है, आप नीचे दिए गयी पांचो  मुद्रा का नियिमत रूप से अभ्यास करे 
1. सूर्य मुद्रा
2. प्राण मुद्रा
3. व्यान  मुद्रा
4. कफ़ नाशक मुद्रा
5. ज्ञान मुद्रा

  1. Written by Dilesh Telwane, Yoga Instructor [][]
  2. Written by Pushkar Agarwal, Founder of CNT [][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][]
  3. Written by Harjas Kaur, Yoga Teacher [][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][][]
  4. Written by Laura, Founder of Yoga Kali [][]
  5. Written by Rahul Sharma, Yoga Trainer [][][][][][][][]
  6. Priyanka Singh, Yoga Expert [][][][]
  7. Written by Kranti Main, Yoga Teacher [][][][][][]
  8. Written by Virendra Ardies, Yoga Teacher [][]
  9. Written by Manish Sharma, Yoga & Naturopathy Teacher [][]
  10. Written by Karishma Rahuja, Yoga Specialist [][]
Spread the love
  • 7
    Shares
  • 7
    Shares

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *