मोटापे से परेशान? यहाँ जानिए 10 योग विशेषज्ञों की कारगर सलाह – Yoga for Weight loss in hindi

वजन घटाने के लिए 6 प्राणायाम ( Pranayama for Weight loss in Hindi )

Pranayama-for-weight-loss-in-hindi
प्राणायाम
1 योग में आसन ही नहीं बल्कि प्राणायाम और मुद्राओं की मदद से भी वजन कम किया जा सकता है।
 
चलिए बात करते हैं कुछ प्राणायाम अभ्यास की।
 
प्राणायाम ” प्राण ” शब्द से बना है और प्राण हमारे शरीर की एक महत्वपूर्ण ऊर्जा है और जैसा  कि हम जानते हैं कि प्राणायाम में गहरी और लम्बी  श्वास ली जाती  है जिसमें हमारे शरीर के रक्त में ऑक्सीजन बढ़ जाती है। ऑक्सीजन की  इस वृद्धि के कारण मेटाबोलिज्म शरीर का  सुपर एक्टिव हो जाता है और इस प्रकार बीएमआई में कमी आती है।
 
एक सक्रिय मेटाबॉलिज्म अधिक संख्या में कैलोरी जलाने में मदद करता है, इसलिए मेटाबॉलिक रेट अगर अधिक है तो आप जल्दी से अपना वजन कम कर सकेंगे  ।
 
हमारे भोजन से हमें जो फैट  मिलता है, वह   बाद में कार्बन डाइऑक्साइड और पानी में परिवर्तित हो जाता है इसलिए यदि आप इन दोनों  उत्पादों को हटा नहीं पा  रहे हैं, तो यह ट्राइग्लिसराइड्स यानी अतिरिक्त फैट  के रूप में शरीर में जमा हो जाता है  और यह प्राणायाम से दूर हो जाता है। 1

1. कपालभाति क्रिया ( Kapalbhati Pranayama in Hindi )

2 योग करके हम अपना वजन कम कर सकते हैं लेकिन इसके लिए, हमें योग को एक पूरी प्रणाली के रूप में देखना होगा, केवल आसन करना पर्याप्त नहीं होगा जैसा कि हमने ऊपर चर्चा की थी!
 
आसन मांसपेशियों में ताकत का निर्माण करते है , लेकिन यदि आप योग के अन्य 7 अंगों को भी शामिल नहीं करते हैं, तो आपकी जीवनशैली में महत्वपूर्ण परिवर्तन नहीं हो सकता है।
 
उदाहरण के लिए, कपालाभाटी श्वास तकनीक वजन कम करने में एक बड़ी सहायता हो सकती है।
 
 जी हां, यह वास्तव में प्राणायाम नहीं है बल्कि  क्रिया साधना है। इसे ” स्कल शाइनिंग ब्रेथ ” ( Skull Shining Breath ) के नाम से भी जाना जाता है। इसमें हम सक्रियता से  ( Active ) साँस छोड़ते है  और निष्क्रियता से  ( Passive ) साँस लेते  है।
 
हमारी सामान्य जिंदगी  में, हम साँस सक्रियता ( Active ) से लेते  है और निष्क्रियता ( Passive ) से छोड़ते है लेकिन सक्रियता से  साँस छोड़ने पर  पेट की मांसपेशियों उत्तेजित हो जाती है और  अतिरिक्त वसा को हटाने और आपके शरीर को टोनिंग करने में मदद करती  है।
 इस तकनीक का इस्तेमाल करके आपका  शरीर डिटॉक्स हो जाता है  और आप जब  तेज और गहरी सांस लेते है तो उससे आपके पूरे शरीर में काफी ऊर्जा पैदा होती है ।
 
आपको सिर्फ डिटॉक्स का लाभ नहीं मिलेगा, बल्कि यह आपके पाचन तंत्र को भी स्वस्थ करेगा। खासकर उन लोगों के लिए जिनका सामान्य तौर पर पाचन तंत्र धीमा होता है। 
 
जब आप इसे सुबह करेंगे,  ठीक जागने के बाद,  तो आपके दिन की शुरुआत में  आप बहुत ऊर्जावान महसूस करेंगे। 

कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास कैसे करें ( How to Kapalbhati Pranayama In Hindi )

कपालभाति श्वास तकनीक के लिए आप अपनी  रीढ़ की हड्डी को सीधा करके बैठ जाये और अपने हाथों को अपने पेट पर रखें जिससे आपका ध्यान इस  क्षेत्र की ओर बड़े और जब आप इस प्राणायाम तकनीक के साथ अधिक अनुभवी हो जाते हैं, तो आप अपने हाथो को  घुटनों पर भी रख सकते हैं।
 
शुरुआत में सामान्य रूप से सांस ले  और फिर कुछ मिनटों के बाद जब आप  तैयार महसूस करे तो आप कपालभाति क्रिया को शुरू कर सकते है ।
 
आपको बस अपनी सांस तेजी से छोड़ना है और आराम से अंदर लेनी है। 
 
शुरू करने के लिए,  लगभग 30 बार आप ऐसा कीजिये और फिर आप  3 से 5 बार  सामान्य रूप से सांस ले सकते हैं। 
 
इसके बाद आप  एक या दो बार इसे दोहरा सकते है और जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर है वे इसे न करे। 2
 

2. अग्निसार क्रिया ( Agnisar kriya in Hindi )

3 यह प्राणायाम पाचन प्रक्रिया को मजबूत बनाता है, पेट की चर्बी को कम करता है और कब्ज में भी फायदेमंद होता है।

कैसे करे अग्निसार क्रिया  ( How to do Agnisar Kriya In Hindi )

1.  पद्मासना में बैठकर अपने हाथों को घुटनों पर आराम से रखें और अपनी आँखों को बंद कर लें
 
2. . अब अपने मुंह से लम्बी और गहरी श्वास बाहर निकालकर उसे बाहर ही रोक ले
 
3.  अब अपने कंधो और रीढ़ की हड्डी को सीधा करके पेट को अंदर-बहार करने की कोशिश करे और ध्यान रखे की यह बिना  श्वास लिए करना है
 
4.  जब श्वास अंदर ले तो अपने पेट और हाथ को समान्य रखे
 
5 . यह इस क्रिया का 1 चक्र है
 
6.    4 से 5 चक्रो का अभ्यास करे और आपको बता दे की  यह प्राणायाम ऊर्जा उत्पन्न करता है, जो आपको गर्म रखने में मदद कर सकता है, इसलिए सर्दियों में 25 चक्रों तक अभ्यास करने की कोशिश करें
 
इसका अभ्यास करने के बाद शवासन में आप आराम कर सकते हैं।
 
सावधानी : उच्च रक्तचाप या हृदय रोग की समस्या हो तो अग्निसार क्रिया को न करे। 3

3)  अनुलोम विलोम प्राणायाम ( anulom vilom in hindi )

1 अनुलोम विलोम प्राणायाम वजन घटाने के लिए एक सिद्ध अभ्यास है, कोर्टिसोल के स्तर (तनाव हार्मोन) को कम करने में मदद करता है और सभी अंगों को ऑक्सीजन की अच्छी आपूर्ति के साथ, यह शरीर के समग्र स्वास्थ  में सुधार करता है।
 
इसमें हम बाएं नथुने से गहराई से श्वास लेते हैं और दाएं नथुने से धीरे-धीरे सांस छोड़ते हैं, फिर से दाएं से गहराई से सांस लेते हैं और उस नथुने को बंद करके बाएं नथुने से सांस छोड़ते हैं, यह अनुलोम विलोम का एक चक्र है ।

अनुलोम विलोम प्राणायाम के फायदे ( Benefits of anulom vilom in hindi )

हार्मोनल असंतुलन के कारण जो अधिक फैट जमा हो जाता है वह  एनुलोम विलोम में लंबी  साँस लेने से समाप्त हो जाता है, यह मेटाबोलिज्म में भी सुधार करता है और  यह रक्त से विषाक्त पदार्थों को भी हटा देता है। 
 
सावधानी :
इस प्राणायाम को करते समय अगर अचानक परेशानी होती है तो हाल इसे रोक दे और  गर्भवती महिलाओं को इसका अभ्यास करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह  लेनाी चाहिए। 

4) भ्रामरी प्राणायाम ( Bhramari Pranayama in hindi ) 

इस अभ्यास में आप गहरी सांस ले और सांस छोड़ने के साथ एक मधुमक्खी की ” बी ” ध्वनि निकाले। 
 
भ्रामारी ” सेरोटोनिन हार्मोन ” की संख्या बढ़ाता है और इस हार्मोन से स्ट्रेस कम होता है क्योंकि तनाव भी वजन बढ़ाने का एक आम कारण है।
 
यह सांस की बीमारियों पर काबू पाने में और मेटाबोलिक गतिविधि को बढ़ाने में भी  मदद करता है। 

5 ) भस्त्रिका प्राणायाम –  Bhastrika Pranayama (Bellows Breath)

 यह भी एक बहुत ही प्रभावी  प्राणायाम  है जो कुछ महीनों के भीतर आपके फैट को कम कर सकता है।
 
इस प्राणायाम में हम एक ही गति में जोर से साँस लेते है और जोर से साँस छोड़ते  है।  यह प्राणायाम  शारीरिक स्तर पर मांसपेशियों की सक्रियता को बढ़ावा देने में मदद करता है  जो आगे चलके संग्रहीत वसा 
( फैट  ) को कम करता है ।
 
यह विभिन्न विषाक्त पदार्थों से रक्त को शुद्ध करके विषहरण प्रक्रिया ( detoxification process ) में भी मदद करता है जो सक्रिय मेटाबोलिज्म  में बाधा डालता है।
 
सावधानी : ये लोग  इस प्राणायाम को न करे जिन्हे  दिल की समस्याएं है , हाई ब्लड प्रेशर है , हाल ही में सर्जरी  हुई है या कोई गर्भवती महिला  है। 1

6) सूर्य भेदन प्राणायाम  ( Surya Bhedan Pranayama in Hindi )

4 मोटापे के लिए यह प्राणायाम वाकई कारगर है।
 
ऐसा करने के लिए किसी भी ध्यान मुद्रा में बैठकर अपनी सांस को मेहसूस करें, फिर नासिका मुद्रा  को  दाएं हाथ में धारण  करे ।
 
ऐसा करने के बाद, अपनी उंगलियों से मामूली दबाव के साथ बाएं नथुने को बंद करके   दाएं  नथुने से श्वास ले और फिर  इसके विपरीत करे । यह सूर्य भेदन प्राणायाम   का एक चक्र  है और वजन कम करने के लिए दिन में 3 बार प्रत्येक अभ्यास  में 27 राउंड परफॉर्म कर सकते हैं।
 
सावधानी : जिन्हें कार्डियक प्रॉब्लम या हाइपरटेंशन है, वे इसे न करे । 4
 
  1. Written by Kranti Main, Yoga Teacher [][][][]
  2. Written by Virendra Ardies, Yoga Teacher [][]
  3. Written by Pushkar Agarwal, Founder of CNT [][]
  4. Written by Manish Sharma, Yoga & Naturopathy Teacher [][]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

x